Jan 26, 2009

पु.श्री तन सिंह जी की जयंती मनाई गई


जोधपुर (25जनवरी) श्री क्षत्रिय युवक संघ के संस्थापक स्व.पु.श्री तन सिंह जी की जयंती बासनी स्थित जय भवानी नगर में मनाई गई | कार्यकर्म में उनके जीवन से प्रेरणा लेने का आव्हान किया गया इस अवसर पर आयोजित समारोह में बोलते हुए क्षत्रिय युवक संघ के प्रान्त प्रमुख श्री प्रेम सिंह जी ने कहा कि स्व.पु. तन सिंह जी जैसा जीवन जीने का हम सभी को अनुसरण करना चाहिए तभी संघ की कार्यप्रणाली की सार्थकता बढेगी | इस अवसर श्री गजेन्द्र सिंह महरोली , श्री माधो सिंह चाडी,श्री शिव सिंह राठोड ,श्री उम्मेद सिंह सेतरावा आदि ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किए |

पु.तन सिंह जी के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें !

Jan 4, 2009

राजस्थान के लोक देवता श्री पाबूजी राठौङ भाग-2

राजस्थान के लोक देवता श्री पाबूजी राठौङ की कथा श्रृंखला की यह दूसरी कडी है । पाठकों से निवेदन है
कि इस लेख को इतिहास कि कसौटी पर ना परखे क्यों कि यह एक कथा है और जन मानस के मुख से
सुनी हुइ है ।श्री पाबूजी राठौङ का जन्म कोळू ग्राम में हुआ था । कोळू ग्राम जोधपुर से फ़लौदी जाते है
तो रास्ते मे आता है । कोळू ग्राम
के जागीरदार थे धांधल जी । धांधल जी की ख्याति व नेक नामी दूर दूर तक थी । एक दिन सुबह सवेरे
धांधलजी अपने तालाब पर नहाकर भगवान सूर्य को जल तर्पण कर रहे थे । तभी वहां पर एक बहुत ही
सुन्दर अप्सरा जमीन पर उतरी । राजा धांधल उसे देख कर मोहित हो गये । उन्होने अप्सरा के सामने
विवाह का प्रस्ताव रखा । जवाब में अप्सरा ने एक वचन मांगा कि राजन आप जब भी मेरे कक्ष में प्रवेश
करोगे तो सुचना करके ही प्रवेश करोगे ।जिस दिन आप वचन तोङेगें मै उसी दिन स्वर्ग लोक लौट जाउगीं।
राजा ने वचन दे दिया ।
कुछ समय बाद धांधलजी के घर मे पाबूजी के रूप मे अप्सरा रानी के गर्भ से पुत्र प्राप्ति होती है । समय
अच्छी तरह बीत रहा था । एक दिन भूल वश या कोतुहलवश धांधलजी अप्सरा रानी के कक्ष में बिना सूचित
किये प्रवेश कर जाते है । वे देखते है कि अप्सरा रानी पाबूजी को सिंहनी के रूप मे दूध पिला रही है । राजा
को आया देख अप्सरा अपने असली रूप मे आ जाती है और राजा धांधल से कहती है कि "हे राजन आपने
अपने वचन को तोङ दिया है इसलिये अब मै आपके इस लोक में नही रह सकती हूं । मेरे पुत्र पाबूजी
कि रक्षार्थ व सहयोग हेतु मै दुबारा एक घोडी(केशर कालमी) के रूप में जनम लूगीं । यह कह कर अप्सरा
रानी अंतर्ध्यान हो जाती है ।


समय पाकर पाबूजी महाराज बड़े हो जाते है । गुरू समरथ भारती जी द्वारा उन्हें शस्त्रों की दीक्षा दी जाती
है । धांधल जी के निधन के बाद नियमानुसार राजकाज उनके बड़े भाई बुङा जी द्वारा किया जाता है । इसी
बात को विडीयो मे भी दिखाया है ।



क्या कभी ऊंट के पांच पैर थे ? जवाब जानने के लिये आपको इस
कथा कि अगली कडी का इन्तजार करना पड़ेगा शेष
कथा अगले भाग में :-