Aug 28, 2009

धरती माता किसने रखी लाज तेरे सम्मान की

धरती माता किसने रखी लाज तेरे सम्मान की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||
हाँ ! गाथाएँ बलिदान की ||

काबुल के तुफानो से जब जन मानस था थर्राया |
गजनी की आंधी से जाकर भीमदेव था टकराया ||
देख खानवा यहाँ चढी थी राजपूतों की त्योंरियां |
मतवालों की शमसिरों से निकली थी चिंगारियां ||
यहाँ कहानी गूंज रही सांगा के समर प्रयाण की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||

देखो इस चितौड़ दुर्ग का हर पत्थर गौरव वाला |
यहाँ चढाई कुल देवी पर शत-शत मुंडो की माला ||
महलों में जौहर धधका हर राजपूत परवाना था |
हर-हर महादेव के नारों से अवनी अम्बर गूंजा था ||
यहाँ गाथाएँ गूंज रही कण-कण में गौरव गान की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||

यही सीकरी यह पानीपत यही वही हल्दीघाटी |
वीर बांकुरों के शोणित से तृप्त हुई जिसकी माटी ||
हाल बता बुन्देल धरा तेरे उन वीर सपूतों का |
केशारियां कर निकल पड़े थे मान बचने माता का ||
भूल गए तो याद करो उस पृथ्वीराज महान की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||

आन बान हित कई बाँकुरे आजीवन थे यहाँ लड़े |
यवन सैन्य के झंझावत से पर्वत बनकर यहीं अडे ||
क्षिप्रा झेलम बोल जरा क्यों लाल हुआ तेरा पानी |
महाकाल से यहाँ जूझने दुर्गा की थी भृकुटी तनी ||
तेरी ही बेदी पर माता चिता जली अरमानों की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||

महाराणा सा सपूत पाकर धन्य हुई यह वसुंधरा |
जयमल पत्ता जैता कुम्पा झाला की यह परम्परा ||
जिन्दा है तो देख जरा जालौर और गढ़ उंटाला |
तारागढ़ और रणतभंवर में लगा शहीदों का मेला ||
आओ फिर से करें प्रतिष्ठा उस पावन प्रस्थान की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||

तडफ रहे है अब परवाने उसी शमां पर चढ़ने को |
आग उठी है रग-रग में फिर से बदला लेने को ||
भभक रहे है अब अंगारे प्रतिहिंसा के झोंको से |
भीख मांगता महाकाल निर्वासित राजकुमारों से ||
जगो यहाँ जगदेवों की लगी है बाजी जान की |
अलबेलों ने लिखी खड्ग से गाथाएँ बलिदान की ||
श्री शिवबख्श सिंह जी ,चुई : ३० दिसम्बर १९५८
क्षत्रिय युवक संघ आई.टी.सी केम्प : त्रिलोकपुरा |

Aug 25, 2009

साथी संभल-संभल कर चलना

साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा |
है अँधियारा पर प्राची में झांक रहा सवेरा ||
बलिवेदी का अंगारा तू जीवन ज्योति जला दे | जीवन ...
लम्बी मंजिल बढ़ता जा होनी से कदम मिला ले , होनी से ...
गौरव से जीने मरने की बढ़ने की यह परम्परा ||
साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा ||

साधन कम है फिर भी तुम पर आशाएं हमारी आशाएं , आशाएं ...
कर्म कठिन है कोमल काया अग्नि परीक्षा तुम्हारी , अग्नि परीक्षा ...
भुला पंथी भटक रहा तू बन जा रे ध्रुवतारा ||
साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा ||

यह जीवन न्योछावर करके क्या संतोष करेगा | क्या ..
जन्म जन्म का कर्जा कैसे एक जन्म में चुकेगा , एक जन्म ...
लहरों से हरो मत साथी दूर नहीं है किनारा ||
साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा ||

शमां जली है परवानों की आई है ऋतू मरने की , आई ...
मरने की या अरमानो की साथी पूरा करने की , साथी ...
करने की बेला में अच्छा लगता नहीं बसेरा ||
साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा ||

जौहर शाको की कीमत को आज चुका बलिदान से , आज ..
दोल उठेंगे दिग्गज साथी तेरे महाप्रयाण से , तेरे ............
अरमानो को बना न देना आंसुओं की धारा ||
साथी संभल-संभल कर चलना बीहड़ पंथ हमारा ||

श्री शिव बख्श सिंह , चुई : १ अप्रेल १९५९
:;

Aug 19, 2009

क्या भारतीय जनता पार्टी खत्म हो रही है

भारतीय जनता पार्टी भारत की दूसरे नंबर की सबसे बड़ी पार्टी है | इस पार्टी ने अपनी शुरूआत हिन्दू एजेंडे के साथ की थी | हिन्दू कौन ? हिन्दू वह जो अपने राष्ट्र से प्यार करे | शुरू में भावना यही थी | शायद इसी विचार धारा के कारण राजपूत समाज जो हमेशा ही अपने देश व अपने गौरव के लिए अपने प्राण न्योछावर करता रहा है, ने भी इस पार्टी में जुड़ने में हित देखा | आज राजपूत समाज का बहुमत इस पार्टी के साथ है | एक दूसरा कारण यह भी था की रियासतों के एकीकरण में कुछ लोग हमेशा कांग्रेश का ही हाथ मानते है जो रजवाडे अपनी रियासतों को खो चुके वो कॉंग्रेस को अपना दुश्मन मानने लग गए | उनके पास भारतीय जनता पार्टीके साथ जुड़ने के अलावा दूसरी कोई पार्टी उस समय नही थी | उनमे से एक वसुंधरा राजे सिंधिया की माता जी विजय राजे भी थी | जब भारतीय जनता पार्टी को संसदीय चुनावों और राजस्थान विधान सभा चुनावों में हार का सामना करना पडा तो उस हार का ठीकरा किसी न किसी के सर पर तो फोड़ना ही था | इसके लिए उन्हें वसुंधरा राजे से अच्छा कोई मोहरा नही मिला | और पार्टी ने उन्हें इस्तीफा देने के लिए विवश कर दिया साथ में अनुशासन हीनता के नाम पर ज्ञान देव आहूजा व राजेन्द्र सिंह राठौड़ को भी निलंबित कर दिया | क्या पार्टी बात चित से कोई हल नही निकाल सकती थी ? एसी कोई समस्या नही है जिसका बातचीत से रास्ता ना निकल सकता हो बशर्ते की इसके लिए इच्छा शक्ती भी हो | पार्टी एक एक कर मेहनती और मजबूत नेताओं को निकाल कर पार्टी अपनी हार की बोखलाहट को दिखा रही है |
आज अभी ताजा खबरों में सुना की जसवंत सिंह जी जैसे कद्दावर नेता को पार्टी ने अपनी प्राथमिक सदस्यता से भी निकाल दिया है | यह तो होना ही था बिना बींद की बरात हमेशा इसी प्रकार की होती है | इस पार्टी का मुख्य नेता तो माननिय श्री अटल बिहारी वाजपेयी थे । जिनके जाने के बाद आडवाणी जी इस नैया को खे रहे थे लेकिन जहा सभी नेता , बड़े नेता हो वहा अनुशासन की बात करना बेमानी लगता है |


इस प्रकार भारतीय जनता पार्टी धीरे धीरे करके राजपूतो का जनाधार खो रही है | एक दिन एसा भी आयेगा जब भारतीय जनता पार्टी केवल भूत काल की बात हो जायेगी | इस परिस्थिति को देख कर यही बात दिमाग में आती है विनाश काले विपरीत बुद्धी | - *

Aug 1, 2009

इतिहास याद दिलाये

इतिहास याद दिलाये मेवाड़ी जयमल पत्ता की !
मेवाड़ी जयमल पत्ता की ! जागो ! जागो !!

जली रानियाँ जौहर व्रत ले , अंगारों से खेली थी अंगारों से खेली |
शान बेचकर कायर की भांति अश्रु धारा ले ली अब अश्रु धारा ले ली ||

भूल गया क्यों भोले तलवार राणा सांगा की !
तलवार राणा सांगा की ! जागो ! जागो !!

केशरिया बन जूझ गए हमको गौरव देने , हाँ हमको गौरव देने |
रखते क्यों नहीं प्राण ह्रदय में उनकी पीडा लेने रे उनकी पीडा लेने ||

आई प्रलय की बेला , है मांग गोरा बादल की !
है मांग गोरा बादल की जागो ! जागो !!

यहाँ घास की रोटी से वैभव ने हार मानी वैभव ने हार मानी |
इस धरती से गूंज रही जीवन की अमर कहानी - जीवन की अमर कहानी ||

वह थाती न गुमाना , महान हल्दी घाटी की !
महान हल्दी घाटी की जागो ! जागो !!

चढा नहीं पूजा में तो पैरों से कुचलेंगे -हाँ पैरों से कुचलेंगे |
कल जो कुचले गए आज फिर तुमसे बदला लेंगे - वे तुमसे बदला लेंगे ||

बिता युग है कोस रहा , धिक्कार ऐसे जीने को |
धिक्कार ऐसे जीने को जागो ! जागो !!
श्री अर्जुन सिंह व कैलाशपाल सिंह द्वारा २४ दिसम्बर १९५८ को रचित |