Aug 9, 2012

लोकतंत्र का मर्म समझें क्षत्रिय : सत्ता के लिए सिर कटवाने की बात नहीं सिर्फ गिनवाने की बात पर ध्यान दें

एक समय था जब राज्य सत्ता प्राप्ति के लिए सिर काटने पड़ते थे और कटवाने पड़ते थे| बिना बलिदान दिए न तो राज्य मिलता था और ना ही सुरक्षित रहता था| पर आज जमाना बदल गया है आज सत्ता प्राप्ति के लिए सिर कटवाने नहीं मात्र गिनवाने पड़ते है|यही कारण है कि जब सिर कटवाने पर सत्ता मिला करती थी उस वक्त सत्ता से दूर रहने वाली जातियां जो सिर कटवाकर सत्ता हासिल करने के बजाय घर में बैठकर या सत्ताधारियों की सेवा करना सत्ता प्राप्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण समझती थी| वे आज सिर गिनवाकर सत्ता में भागीदार बनी हुई है| क्योंकि लोकतंत्र में सिर गिनवाने के महत्व को उन्होंने बखूबी समझा है, पर सिर कटवाकर सत्ता हासिल करने वाली वीर जाति "क्षत्रिय" लोकतांत्रिक प्रणाली में सिर गिनवाकर आसानी से सत्ता प्राप्त करने जैसे आसान मर्म को समझ नहीं पाई और आज बड़ी आसानी से मिलने वाली सत्ता से दूर है|

यदि आपको मेरी इस बात पर कि -"सत्ता सिर गिनवाने पर मिलती है" भरोसा ना हो तो निम्न उदाहरण आपके सामने है जिन्हें पढकर आपको भी मेरी यह बात सही लगेगी कि -आजकल सत्ता सिर्फ गिनवाने यानी लामबंद होकर वोट देने पर ही हासिल होती है-
1- आज दलितों व पिछडों को जो आरक्षण दिया हुआ है उससे देश का हर वर्ग दुखी है पर इसे हटाने का कार्य तो सरकार ही कर सकती है| पर चूँकि दलित व पिछड़े लामबंद होकर उसी राजनैतिक दल के पक्ष में सिर गिनवाते है मतलब वोट देते है जो राजनैतिक दल उनके जातिय हितों की रक्षा करें| अब जो दल या सरकार ये जाति-आधारित आरक्षण बंद करने की बात सोचते है तो डर जाते कि ऐसा करने से दलित व पिछड़े नाराज हो जायेंगे और हमें तो वोट देंगे नहीं बदले में विपक्ष को वोट दे देंगे इससे वे सत्ता से बेदखल हो जायेंगे| अब ऐसा रिस्क कौन ले ?
मतलब साफ जाहिर है दलितों व पिछडों ने लोकतंत्र में सिर गिनवाने वाली महिमा को बड़ी अच्छी तरह समझा और उसका फायदा उठा राज कर रहे है| आज हर सरकारी नौकरियों में उनके लिए तो दरवाजे खुलें ही है चाहे उनमे योग्यता हो या ना हों| और यही नहीं कुछ स्वघोषित दलित नेता चाहे किसी दल की सरकार हो उसमे मंत्री पद पा ही जाते है महज इस योग्यता पर कि वे दलित है,पिछड़े है|

2-अब मुसलमानों का उदाहरण ले लीजिए| वे भी लामबंद होकर किसी एक के पक्ष में चुनावों में सिर गिनवाते है और जिस दल को उनके वोट चाहिए वो सरकार बनने के बाद उनके तुष्टिकरण करने का पुरा ध्यान रखता है| इसका उदाहरण आप आजादी के बाद से ही देख रहे है कि किस तरह कांग्रेस सरकार इनका तुष्टीकरण करती आ रही है यही नहीं कई मामले ऐसे भी आये है कि कांग्रेस ने इस वोट बैंक की खातिर देशहित को भी परे किया है| इनके तुष्टीकरण की खातिर देश के कानून तक बदलें गए है| ताजा उदाहरण आप मुलायम सिंह की समाजवादी पार्टी का देख सकते है कि किस तरह वह मुस्लिम वोट बैंक के लिए उनका तुष्टीकरण करने में लगी है|
कहने का मतलब साफ है मुस्लमान भारत में अल्पसंख्यक है फिर भी वे सरकारों व राजनैतिक दलों से जो चाहे पा लेते है, किसी भी सरकार को झुकाने का माद्दा रखते है वह भी सिर्फ सिर गिनवाने की कला के पीछे|
मतलब साफ़ है मुसलमानों ने भी लोकतंत्र की इस सिर गिनवाने वाली खास बात का मर्म समझ लिया और वे कम होने के बावजूद वो सब पा जाते है, जो वे चाहते है कोई भी दल उनकी उपेक्षा नहीं कर सकता|

3- जाटों ने भी लोकतंत्र की इस सिर गिनवाने वाली बात को बड़ी बखूबी समझा और चुनावों में लामबंद हो वोट डालने शुरू किये उनके थोक वोट देखकर लगभग सभी राजनैतिक दलों ने चुनावों में जाट प्रत्याशी उतारने शुरू किये और वे अपने स्वजातीय द्वारा लामबंद होकर दिए वोटों से जीत कर सत्ता के भागीदार बने| यही नहीं राजस्थान के जाटों ने अपनी इसी लामबंदी का फायदा आरक्षण की सुविधा पाने में किया| उनके वोट बैंक को देखते हुए सरकार ने उनकी आरक्षण में शामिल करने की मांग मान ली| अब राजस्थान में कोई सरकारी कार्यालय ऐसा नहीं जहाँ जाट कर्मचारी नहीं|
और जाटों ने ये सब पाया लोकतंत्र में सत्ता के लिए सिर गिनवाने वाले आसान उपाय को अपनाकर| तो क्षत्रिय भाइयो उपरोक्त उदाहरण पढकर जो आपके सामने प्रत्यक्ष भी है आपको भी लोकतंत्र में सिर गिनवाकर सत्ता हासिल करने की महिमा के बारे में समझ आया होगा| अब जब सिर्फ सिर गिनवाने से सत्ता हासिल हो सकती है तो सिर कटवाने की बातें करने की क्या जरुरत ?

लोकतंत्र के इस मर्म को समझिए और लामबंद हो एक जबरदस्त वोट बैंक में अपने आपको तब्दील कर दीजिए कि सारे राजनैतिक दल आपके आगे पीछे हाथ जोड़कर भागे फिरें और आप उनसे देशहित में जो करवाना हो वो अपनी मर्जी से करवाएं| पर इसके लिए जरुरी है क्षत्रिय एकता| हम सब एक होकर, अपनी एकता के बल पर फिर अपना खोया गौरव पा सकते है| हमें यह एकता स्व-कल्याण और देशहित को ध्यान में रखकर ही करनी है न कि किसी अन्य जाति के खिलाफ| वैसे भी कोई भी क्षत्रिय अपने जन्म-जात संस्कारों के चलते दूसरी किसी जाति का बुरा सोच भी नहीं सकता| इतिहास गवाह है कि वे क्षत्रिय ही थे जिन्होंने सभी वर्गों,धर्मों के लोगों को साथ रखा|
नोट: आजतक जातिय व्यवस्था में मेरा भरोसा सिर्फ इतना ही था कि- जाति की बात सिर्फ शादी-ब्याह व अपनी रिश्तेदारी तक ही सीमित रखनी चाहिए|
पर सरकार व राजनैतिक दलों ने जिस प्रकार जातियों व संप्रदायों को उनके लामबंद होकर वोट देने के हिसाब से सुविधाएँ व विशेषाधिकार देकर जातिवाद को बढ़ावा दिया है मतलब जातिवादी व्यस्था को सुदृढ़ किया है ऐसे में जातिवाद से दूर रहने वाले लोगों के लिए जीना दुष्कर होता जा रहा है | जब सरकार ही जातिय आधार पर हमारा वर्गीकरण कर रही है तो हमें जातिवादी सोच रखने में बुराई क्यों लगे?